नॉलेज ब्रीफ

एक जिगजैग भट्ठे की बाहरी दीवार और विकेट गेट्स (घाटी) के निर्माण के अच्छे तरीके क्या हैं?

एक ज़िगज़ैग भट्ठे (एक नेचुरल ड्राफ्ट ज़िगज़ैग किल्न [एनडीजेडके] या एक इन्डयूज्ड ड्राफ्ट ज़िगज़ैग किल्न [आईडीजेडके]) के निम्न घटक होते हैं:

  1. चिमनी
  2. हवा खींचने वाला पंखा (आईडीजेडके में)
  3. फ्लू गैस नालियां
  4. मियाना
  5. बाहरी दीवार
  6. विकेट गेट्स (घाटी).

भट्ठे के कुशल कामकाज के लिए इन घटकों के निर्माण की गुणवत्ता अच्छी होनी चाहिए। इस नॉलेज ब्रीफ में, जिगजैग भट्ठे (एनडीजेडके या आईडीजेके) की बाहरी दीवार और विकेट गेट्स (घाटी) के निर्माण के लिए अच्छे तरीकों के बारे में बताया गया है। एक जिगजैग भट्ठे की चिनाई की हुई चिमनी, फ्लू गैस नालियों और मियाना के निर्माण के अच्छे तरीकों के बारे में अन्य नॉलेज ब्रीफों में चर्चा की जायेगी।

भट्ठे की बाहरी दीवारों और विकेट गेट्स का डिज़ाइन और निर्माण गर्मी के रिसाव को कम करने और भट्ठे में ठंडी हवा के रिसाव को कम करने के लिए के लिए किया जाता है।

विज्ञापन

बाहरी दीवार बनाने के लिए अच्छे तरीके क्या हैं?

बाहरी दीवार के क्रॉस-सेक्शन का रेखाचित्र
निर्माणाधीन भट्ठे की बाहरी दीवार

बाहरी दीवार के निर्माण के अच्छे तरीके इस प्रकार हैं।

  1. बाहरी दीवार के निर्माण के लिए कम से कम 1 फुट गहरा नींव का गड्ढा खोदा जाता है।
  2. नींव के गड्ढे का फर्श ठोस और समान रूप से समतल किया जाता है।
  3. दीवार के निर्माण में गारे का उपयोग किया जाता है। उपयोग से कम से कम 2-3 दिन पहले गारा तैयार हो जाना चाहिए । गारा एक समान पेस्ट के रूप में होना चाहिए (टूथपेस्ट जैसा)।
  4. भट्ठे की बाहरी दीवार दो दीवारों की बनी होती है दोनों दीवारों के बीच की जगह में मिट्टी भरी जाती है। यह डिजाइन बाहरी दीवार से होने वाली गर्मी के रिसाव को कम करता है।
  5. भीतरी और बाहरी दीवारों को सीढ़ीनुमा बनाया जाता है।
  6. भीतरी और बाहरी दीवारों के निर्माण के साथ-साथ, दोनों दीवारों के बीच मिट्टी की भराई परतों में की जाती है। दीवारों के बीच खाली स्थान न रह जाए, इसके लिए मिट्टीकी भराई पार्ट दर परत की जाती है। लगभग 1 फुट मिट्टी की परत को दुरमुठ लगा के ठोस किया जाता है।
  7. बाहरी और भीतरी दीवार को मिट्टी से पलस्तर किया जाता है।
  8. भट्ठे की दीवार गर्म होने पर फैलती है और ठंडे होने पर सिकुड़ती है। इस कारण थर्मल तनाव से कारण दीवारों में दरारों के पैदा होने की संभावना को कम करने के लिए बाहरी दीवार की अन्दर की सतह पर विस्तार जोड़ (एक्सपेंशन ज्वाइंट) बनाए जाते हैं।
  9. दो विकेट गेटों के बीच एक एक्सपेंशन ज्वाइंट बनाया जाना चाहिए।

विज्ञापन

विकेट गेट्स (घाटी) बनाने के लिए अच्छे तरीके क्या हैं?

विकेट गेट (घाटी) पर कॉलर का निर्माण
बंद किया हुआ विकेट गेट (घाटी)

विकेट गेट्स (घाटी)  के निर्माण के अच्छे तरीके नीचे दिए गए हैं।

  1. भट्ठे के अंदर कच्ची ईंटों को लाने व पकी ईंटों को बाहर ले जाने के लिए बाहरी दीवार में विकेट गेट्स (घाटी) बनाए जाते हैं।
  2. विकेट गेट्स के दोनों तरफ कॉलर बनाये जाते हैं।
  3. भट्ठे के फायरिंग के दौरान अस्थायी रूप से विकेट गेट को बंद करने के लिए, कॉलर के दोनों तरफों पर दीवारें बनाई जाती हैं। दोनों दीवारों को गारे से पलस्तर किया जाना चाहिए और दो दीवारों के बीच खाली जगह को मिट्टी से भरा जाना चाहिए। भट्ठे सेगर्म गैसों के रिसाव को कम करने या बाहर की हवा के भट्ठे में घुसने और गर्मी के नुकसान को कम करने के लिए ऐसा किया जाता है।
अन्य नॉलेज ब्रीफ के लिए यहाँ क्लिक करें एक जिगजैग भट्ठे की बाहरी दीवार और विकेट गेट्स (घाटी) के निर्माण के अच्छे तरीके क्या हैं? मुखपृष्ठ के लिए यहाँ क्लिक करें Click here to go to User Home