नॉलेज ब्रीफ

भारत में ईंट भट्टों से वायु प्रदूषण के लिए उत्सर्जन मानक क्या हैं?

भारत सरकार औद्योगिक स्रोतों से प्रदूषण के स्तर को सीमित करने के लिए उत्सर्जन मानकों को निर्धारित करती है। उत्सर्जन के न्यूनतम राष्ट्रीय मानकों को 100 से अधिक उद्योगों / गतिविधियों के लिए अधिसूचित किया गया है, इसमें ईंट भट्टों से वायु प्रदूषण के लिए मानक भी शामिल हैं।

0

विज्ञापन

वायु प्रदूषण क्या है?

वायु प्रदूषण को हवा में जहरीले रसायनों या यौगिकों की इस मात्रा में उपस्थिति, जो स्वास्थ्य को नुक्सान पहुंचा सकती है, के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। ये रसायन या यौगिक गैसीय रूप में (जैसे कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, आदि), या ठोस रूप में (हवा में मौजूद कण पदार्थ के रूप में) हो सकते हैं।

विज्ञापन

उत्सर्जन मानकों को कैसे विकसित किया जाता है?

उत्सर्जन मानकों को एक विस्तृत प्रक्रिया के माध्यम से विकसित किया जाता है जिसमें आमतौर पर कई सालों लगते हैं। यह प्रक्रिया केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) में शुरू होती है, जहां ड्राफ्ट मानकों का विकास किया जाता है। आमतौर पर उद्योग और विशेषज्ञों के इनपुट तथा एक स्वतंत्र परामर्शदाता द्वारा विस्तृत अध्ययन के आधार पर ड्राफ्ट मानक बनाए जाते हैं। ड्राफ्ट मानकों को पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफसीसी) को भेजा जाता है, जो मानकों की समीक्षा करते हैं और उन्हें सार्वजनिक परामर्श के लिए रखते हैं। अधिसूचित होने से पहले कानून मंत्रालय द्वारा मानकों की भी समीक्षा की जाती है। ये न्यूनतम राष्ट्रीय मानक हैं, लेकिन राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एसपीसीबी) के पास आवश्यकता होने पर इससे भी कड़े मानक निर्धारित करने का अधिकार होता है।

उत्सर्जन मानकों के कार्यान्वयन के लिए कौन जिम्मेदार होता है?

उत्सर्जन मानकों के कार्यान्वयन के लिए राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एसपीसीबी) की मुख्य ज़िम्मेदारी होती है।

भारत में ईंट भट्टों के लिए मौजूदा उत्सर्जन मानक क्या हैं (30 जून, 2018 को)?

भारत में तीन प्रकार के ईंट भट्टों के लिए उत्सर्जन मानक हैं – बुल्स ट्रेंच किल्न, डाउन ड्राफ्ट किल्न और वर्टिकल शाफ्ट किल्न। क्लैंप किल्न्स के लिए विशेष रूप से कोई उत्सर्जन मानकों नहीं हैं। उत्सर्जन मानक मिलीग्राम / सामान्य घन मीटर (mg/Nm3) में फ्लू गैसों में पार्टिकुलेट मैटर की अधिकतम सघनता और मीटर (एम) में चिमनी की न्यूनतम ऊंचाई को दर्शातें हैं।

भट्टे के प्रकार

क्षमता

पर्टिकुलेट मैटर की सघनता की सीमा  (mg/Nm3)

चिमनी की न्यूनतम ऊंचाई (मीटर में)

नेचुरल ड्राफ्ट

पंखे के साथ कम से कम 50 mm WG का ड्राफ्ट

बुल्स ट्रेंच किल्न

छोटे

1000

22

12

मध्यम

750

27

15

बड़े

750

30

17

डाउन ड्राफ्ट किल्न

छोटे

1200

12

लागू नहीं

मध्यम

1200

15

लागू नहीं

बड़े

1200

18

लागू नहीं

व​रटिकल शाफ़्ट किल्न

छोटे

250

11

लागू नहीं

मध्यम

250

14

लागू नहीं

बड़े

250

16

लागू नहीं

पूर्ण उत्सर्जन मानकों को http://moef.gov.in/legis/ep/543_E.pdf से डाउनलोड किया जा सकता है।

 

अन्य देशों में इसकी तुलना में भारत में ईंट भट्टों के लिए उत्सर्जन मानक कैसे हैं?

चीन और दक्षिण अफ्रीका जैसे बड़े ईंट उत्पादक देशों में, ईंट भट्टों के लिए उत्सर्जन मानक अधिक कठोर हैं। दक्षिण अफ्रीका में, कण पदार्थ उत्सर्जन के लिए “नए” ईंट भट्टों (क्लैंप भट्टों को छोड़कर) के लिए उत्सर्जन मानक 50 mg/Nm3 है, जबकि “पहले से चल रहे” ईंट भट्टों (क्लैंप भट्टों को छोड़कर) के लिए 150 mg/Nm3 है। इसी तरह, चीन में, “नए” ईंट भट्टो (सुखाने और फायरिंग) के लिए प्रस्तावित उत्सर्जन मानक 50 mg/Nm3 है, जबकि “पहले से चल रहे” ईंट भट्टों (सुखाने और फायरिंग) के लिए 100 mg/Nm3 है। यूरोप और उत्तरी अमेरिका के विकसित देशों में ईंट भट्टो के लिए उत्सर्जन मानक अधिक कठोर होने के अलावा, इसमें कई और मानक शामिल हैं। उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में मानकों में एसिड गैसों, पारा और कण पदार्थ के लिए उत्सर्जन सीमा को शामिल किया जाता है।

क्या भारत में ईंट भट्टों के लिए मौजूदा उत्सर्जन मानकों की समीक्षा की जा रही है?

ईंट भट्टों के लिए मौजूदा उत्सर्जन मानकों को 2009 में अधिसूचित किया गया था। ईंट भट्टों के लिए उत्सर्जन मानकों को संशोधित करने की प्रक्रिया 2010 में शुरू हुई थी। एमओईएफसीसी ने अब 2015 में और हाल ही में 2018 में सार्वजनिक परामर्श के लिए ड्राफ्ट उत्सर्जन मानकों के दो संस्करणों को रखा है। मार्च 2018 में सार्वजनिक परामर्श के लिए ड्राफ्ट मानकों को रखा गया था, जो कई प्रकार के ईंट भट्टों के लिए 250 mg/Nm3 (सामान्यीकृत 4% CO2) की मात्रा पर उत्सर्जन मानकों को कड़े बनाने का प्रस्ताव है, जिसमें बुल्स ट्रेंच किल्न, इंड्यूज्ड/ हाई ड्राफ्ट किल्न, हॉफमैन किल्न, टनल किल्न, डाउन ड्राफ्ट किल्न, वर्टिकल शाफ्ट किल्न, और ज़िगज़ग किल्न शामिल हैं।

सार्वजनिक परामर्श को ध्यान में रखते हुए, 2018 के दौरान नए उत्सर्जन मानकों की घोषणा की जाने की उम्मीद है।

अन्य नॉलेज ब्रीफ के लिए यहाँ क्लिक करें भारत में ईंट भट्टों से वायु प्रदूषण के लिए उत्सर्जन मानक क्या हैं? मुखपृष्ठ के लिए यहाँ क्लिक करें Click here to go to User Home