ब्रिकगुरु के बारे में

मिट्टी, ऊर्जा आदि के उपयोग के संदर्भ में ईंट-निर्माण एक संसाधन-गहन प्रक्रिया है। नई तकनीकों के उपयोग तथा पुरानी तकनीकों में सुधार कर, ईंट निर्माण में, ऊर्जा की बचत और पर्यावरणीय प्रभावों को कम करने की अपार संभावनाएं हैं।

एक ज्ञान और प्रशिक्षण पोर्टल के रूप में, ब्रिकगुरु का उद्देश्य तीन श्रेणियों के पाठको को तकनीकी जानकारी प्रदान करना है।

  1. ईंट निर्माता (मौजूदा / स्थापित, भावी / नये)
  2. ईंट उपयोगकर्ता (बिल्डर, ठेकेदार, आर्किटेक्ट, सलाहकार, भवन मालिक, घर बनाने वाले)
  3. अधिकारी और अन्य (संघीय, राज्य और स्थानीय सरकारों के अधिकारी; उद्योग संघों के संचालक, सामाजिक संगठन, आदि)।

यदि आप एक ईंट निर्माता हैं, तो ब्रिकगुरु आपको संसाधन-कुशल ईंट उत्पादन के सभी पहलुओं पर व्यावहारिक और सीधे कार्रवाई योग्य जानकारी, ज्ञान और प्रशिक्षण से लैस करेगा।

यदि आप एक ईंट उपयोगकर्ता हैं, तो ब्रिकगुरु आपको संसाधन-कुशल ईंटों का चयन करने, खरीदने और उपयोग करने में मदद करेगा, और निर्माण में इस्तेमाल होने वाले संसाधनों की बचत में सहयता करेगा ।

यदि आप संघीय, राज्य या स्थानीय सरकारों के अधिकारी या नियामक हैं, तो ब्रिकगुरु आपको संसाधन-कुशल ईंटों के निर्माण और उपयोग के लिए अनुकूल नीतियां बनाने के लिए विचारों और सुझावों से अवगत करायेगा ।

ब्रिकगुरु को चरणों में विकसित किया जा रहा है, और इसका रोलआउट एक  चरणबद्ध  तरीके से किया जा रहा है। आपसे अनुरोध है की आप नियमित रूप से ब्रिकगुरू विजिट करते रहें। आपकी टिप्पणियों और सुझावों का स्वागत है।

टीम

ब्रिकगुरु को ग्रीनटेक नॉलेज सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड (GKSPL) ने बनाया है। GKSPL एक शोध और सलाहकार फर्म है, जो इमारतों में ऊर्जा दक्षता में सुधार, निर्माण सामग्री के उत्पादन में संसाधन दक्षता में सुधार और विकेन्द्रीकृत नवीकरणीय ऊर्जा प्रणालियों की तैनाती के लिए सेवाएं और समाधान प्रदान करती है।

ब्रिकगुरु, GKSPL के ईंट क्षेत्र में 25 से अधिक वर्षों के एक्शन रिसर्च के अनुभव पर आधारित है। GKSPL टीम को न केवल ईंट निर्माण, बल्कि भवन डिजाइन और पर्यावरण नीति का भी अनुभव है।

सहयोगी

ब्रिकगुरु टीम बहुत बहुत भाग्यशाली है की उसे बड़ी संख्या में हितधारकों से ज्ञान, प्यार, मदद और समर्थन मिला है, और हम तहे दिल से उनमें से हर एक को धन्यवाद देना चाहते हैं, और भविष्य में भी यह मिलता रहे इसकी कामना करते है ।

ब्रिकगुरु को लॉन्च करना कई सहायक संगठनों से वित्तीय सहायता के बिना संभव नहीं था। विशेष रूप से, हम जलवायु और स्वास्थ्य अनुसंधान नेटवर्क (CHeRN) और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय को धन्यवाद करना चाहते हैं।

0